Friday, February 7, 2020

जीवन मे खेल गतिविधि के महत्व पर एक निबंध


जीवन मे खेल गतिविधि के महत्व पर एक निबंध

प्रस्तावना -  

सभी समय और समाजों मेंए यह खेल खेलने के लिए बहुत फायदेमंद था। मानव की अकांक्षा रहती है। कि वह स्वस्थ्य रहकर जीवन विताए। रोग उससे कोसो दूर रहे जीवन की घुटन को भी कुछ समय के लिए विस्मृत कर दे। इसका सबसे आसान उपाए। खेलों को ही ठहराया गया हैं शारीरिक स्वास्थ्य मानव के जीवन की प्रथम मंजिल है। शरीर को स्वस्थ बनाने के लिए सबसे उपयुक्त साधन है। खेल से इन्सान का भरपूर मनोरंजन होता है। शरीर को संचालित करने से व्यायाम भी हों जाता है।
                                    एक बार खेल गतिविधि से निपटने के बादए प्रत्येक व्यक्ति शरीर के अंगों के शारीरिक कार्यों में सुधार कर सकता है और पूरे जीवन की कार्यक्षमता में सुधार कर सकता है। खेल शरीर को स्वस्थ और मन को शांत रखने की अनुमति देते हैं। यह कई रोगों के लिए सबसे अच्छी चिकित्सा है। खेल लोगों के जीवन को आगे बढ़ाता है और उन्हें सामान्य रूप से जीवन के साथ अधिक सक्रिय और संतुष्ट बनाता है। यदि आप खेलों में सबसे बड़े लक्ष्यों तक पहुंचना चाहते हैंए तो पर्याप्त समय और प्रयासों का भुगतान करने के लिए एक महान पेशेवर खेल कैरियर बनाना आसान है। जब आप अपने शरीर को नियंत्रित कर सकते हैं और इसे हर दिन मजबूत बना सकते हैंए तो आप अपने शरीर और दिमाग के कामकाज से पूरी तरह से संतुष्ट हो सकते हैं। खेल आपको टीम में काम करना भी सिखाते हैं और टीम के लक्ष्यों को आसानी से प्राप्त करते हैं और टीम के प्रत्येक सदस्य के विचारों और इच्छाओं का ध्यान रखते हैं। इसलिएए स्कूलों और कॉलेजों में खेल को बढ़ावा दिया जाना चाहिए।

 खेल -

प्राचीन काल में अनेक प्रकार के खेल खेले जाते थें जैसे- तीरंदाजीए, कुश्तीए, घुड़दौड़ए, कूदना, दौड़,कबड्डी, आदि खेल थे। उस समय खेलों में ताकत महत्व था। आधुनिक युग में कैरमए ताश एवं शतरंज, हॉकी, क्रिकेट एवं बास्केटबॉल आदि खेल खेले जाते है। आधुनिक समय में हॉकी, क्रिकेट एवं बास्केटबॉल आदि अनेक रोचक खेल आज प्रचलित है।

खेलों से लाभ

खेलों से खिलाड़ियों में सामूहिक एवं बंधुत्व भावना का विकास होता है। चरित्र का अभ्युत्थान होता है। सहनशीलताए धैर्यए हिम्मत तथा जोखिम उठाने की भावना भी बलवती होती हैं। खेल भावना का विकास होने से छात्र जीवन में स्पर्धा की दौड़ में सोत्साह शामिल होने को सहर्ष उद्यत हो जाते है। हार व जीत को वे सम भावना से अपनाते है। हार को छात्र भविष्य की जीत की आधारशिला के रूप में स्वीकरतें है।

खेलों का आयोजन-

आज राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अनेक खेलों के आयोजन होते है। इन आयोजनो में विभिन्न देशों का सौहार्द्र तथा भाईचारा बढ़ता है। विद्यालयए जिले तथा प्रदेश स्तर पर भी खेलों का आयोजन किया जाता है। इन्ही से विजय होकर खिलाड़ी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहुॅचतें है।

आर्थिक स्त्रोत-

आज खेल मनोरंजन का प्रमुख साधन है। क्रिकेटए हॉकीए टेनिस आदि खेलों को देखने वाले कीमती टिकिट खरीदतें है। खिलाड़ी भी खेल खेलने के लिए मनमाना रूपया बसूल करते है। ध्यानचन्द, सचिन तेंदुलकर, कपिलदेव, सौरभ गांगोली, महेन्द्र सिंह धोनी, साईना नेहवाल, विश्वनाथ आदि खिलाड़ियों का विश्व स्तर पर सम्मान होता हैं

प्रमुख खेल की निजी सुरक्षा- 

राष्ट्र को हमेशा अपने नायकों की जरूरत होती है कि वे किसी युवा पीढ़ी के लिए एक मार्गदर्शक सितारा बनें। उनके प्रयासों और कड़ी मेहनत के साथ कई खेल व्यक्तित्व बताते हैं कि इस दुनिया में सब कुछ संभव है। इसके अलावाए वे निरंतर खेल गतिविधियों और टीम की खेल भागीदारी के महान प्रभावों को प्रदर्शित करते हैं। ये लोग हमें खेल में जाने और हर दिन बेहतर बनने के लिए एक मजबूत प्रेरणा देते हैं। जाने.माने एथलीट देश में युवाओं को प्रोत्साहित करते हैं और खेल के हर बेहतरीन फ़ायदे के लिए उनकी रूपरेखा बनाते हैं।
                                   जैसा कि आप देख सकते हैंए देश में लोगों के लिए खेल का महत्व वास्तव में प्रभावशाली और त्रुटिहीन है। खेल फायदे का एक गुच्छा प्रदान करते हैं और लोगों के जीवन में काफी सुधार करते हैं। नियमित खेल गतिविधि के साथए एक अच्छा आकार रखनाए शारीरिक सहनशक्ति और मस्तिष्क गतिविधि में सुधार करना आसान है। इसके अलावाए खेल हमें सिखाते हैं कि टीम में कैसे काम करें और टीम के लक्ष्यों को आसानी से हासिल करें। खेल एक स्वस्थ और मजबूत राष्ट्र की नींव हैं जो चतुर और मेहनती लोगों का एक मजबूत गठबंधन बना हुआ है।

निष्कर्ष -

खेल के महत्व पर निबंध का उद्देश्य लोगों को युवा पीढ़ी के लिए खेल गतिविधियों की मजबूत आवश्यकता को दिखाना है। खेल युवाओं के लिए सामान्य स्वास्थ्य सहितए रक्त परिसंचरण और समग्र शारीरिक सहनशक्ति सुधार के साथ लाभ का एक गुच्छा ला सकता है। खेल लोगों के शारीरिकए सामाजिक और संगठनात्मक कौशल को विकसित और बेहतर बनाता हैए जो व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में फायदेमंद होते हैं और हमेशा प्राप्त करना चाहिए

0 comments: